PRIMARY KA MASTER
उत्तर प्रदेश में शिक्षकों की आगामी भर्तियां 2022 UPPSC 2022 का 250 पदों के लिए नोटिफिकेशन जारी
आईपीएल 2022 शेड्यूल, प्वाइंट टेबल यूपी बोर्ड 10th-12th एग्जाम की डेटशीट
17000 शिक्षक भर्ती नवीनतम अपडेटयूपी पुलिस 26382 कॉन्स्टेबल पदों पर भर्ती
उप्र लोक सेवा आयोग परीक्षा कैलेंडर 2022 UPSSSC प्रारंभिक अर्हता परीक्षा (PET 2022)
उत्तर प्रदेश प्रमाणपत्र सत्यापन - आय, जाति, निवास , यूपीबोर्ड, टेट बेसिक शिक्षा परिषद की वर्ष-2022 की अवकाश तालिका
शिक्षक सूचनाओं को सीधे पाने लिए ज्वाइन करें शिक्षक समूह
UP ELECTION 2022: वोटों की गिनती कितने बजे शुरू होगी
1 वोटों की गिनती सुबह 8 बजे से शुरू होती है
2 सबसे पहले पोस्टल बैलेट गिने जाते हैं.
3 आधे घंटे बाद EVM के वोटों की गिनती शुरू होती है.
80 साल से ज्यादा उम्र के बुजुर्गों, दिव्यांगों, आवश्यक सेवाओं में लगे लोग और चुनाव ड्यूटी में लगे कर्मचारियों को पोस्टल बैलेट से वोट देने की इजाजत है. इन लोगों को पोस्टल बैलेट जारी किए जाते हैं, जिससे वो अपना वोट डाल सकते हैं. इन्हें पोस्ट कर दिया जाता है.
वहीं, जिस राज्य में चुनाव हो रहा है, उस राज्य के मूल निवासी अगर किसी दूसरे राज्य में रहते हैं, उन्हें सर्विस वोट जारी किए जाते हैं. इनमें सेना या अर्धसैनिक बलों में काम कर रहे अफसर-जवान या सरकारी कर्मचारी शामिल होते हैं. ये लोग ऑनलाइन बैलेट का प्रिंटआउट निकालकर उसको डाक के जरिए भेजता है. इसे डाक वोट भी कहा जाता है.
काउंटिंग सेंटर में 14 टेबल होते हैं. इसके अलावा एक-एक टेबल रिटर्निंग ऑफिसर और ऑब्जर्वर के लिए भी होता है. काउंटिंग सेंटर में उम्मीदवार या उनके एजेंट को मौजूद रहने की इजाजत रहती है
EVM के वोटों की गिनती अलग-अलग राउंड्स में होती है. हर राउंड में 14 EVM के वोट गिने जाते हैं. हर राउंड के बाद एजेंट से फॉर्म 17-C हस्ताक्षर करवाया जाता है और फिर RO को दे दिया जाता है.
काउंटिंग हॉल में एक ब्लैकबोर्ड भी होता है, जिसमें हर राउंड के बाद हर प्रत्याशी को कितने वोट मिले, ये लिखा जाता है. फिर लाउडस्पीकर से घोषणा की जाती है. इसे ही रूझान कहा जाता है.
काउंटिंग हॉल के अंदर मोबाइल फोन ले जाना मना होता है. अंदर मीडिया वालों को भी आने की इजाजत नहीं होती. सिर्फ ऑफिशियल कैमरा से ही वीडियो रिकॉर्डिंग की जाती है. दूसरे कैमरे से रिकॉर्डिंग नहीं की जा सकती.
VVPAT से भी होता है मिलान
वोटिंग प्रक्रिया में पारदर्शिता लाने के मकसद से VVPAT को लाया गया था. ये एक तरह की मशीन रहती है जो EVM से कनेक्ट होती है. वोट डालने के बाद एक पर्ची निकलती है जिस पर कैंडिडेट का नाम और चुनाव चिन्ह होता है. ये पर्ची 7 सेकंड तक दिखाई देती है और फिर गिर जाती है.
सुप्रीम कोर्ट में विपक्षी दलों ने अर्जी दी कि हर निर्वाचन क्षेत्र में 50% EVM और VVPAT के वोटों को मैच किया जाए. लेकिन चुनाव आयोग ने कहा कि ऐसा किया तो कम से कम 5 दिन लग जाएंगे. इसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने हर निर्वाचन क्षेत्र में 5 EVM और VVPAT में डले वोटों को मैच करने का आदेश दिया.
🏠 Home