PRIMARY KA MASTER
उत्तर प्रदेश में शिक्षकों की आगामी भर्तियां 2022 UPPSC 2022 का 250 पदों के लिए नोटिफिकेशन जारी
आईपीएल 2022 शेड्यूल, प्वाइंट टेबल यूपी बोर्ड 10th-12th एग्जाम की डेटशीट
17000 शिक्षक भर्ती नवीनतम अपडेटयूपी पुलिस 26382 कॉन्स्टेबल पदों पर भर्ती
उप्र लोक सेवा आयोग परीक्षा कैलेंडर 2022 UPSSSC प्रारंभिक अर्हता परीक्षा (PET 2022)
उत्तर प्रदेश प्रमाणपत्र सत्यापन - आय, जाति, निवास , यूपीबोर्ड, टेट बेसिक शिक्षा परिषद की वर्ष-2022 की अवकाश तालिका
शिक्षक सूचनाओं को सीधे पाने लिए ज्वाइन करें शिक्षक समूह
KHAN SIR : FIR के बाद खान सर फरार : कोचिंग बंद और मोबाइल भी किया स्विच ऑफ
Khan sir class : एफआईआर दर्ज होते ही पटना के चर्चित खान सर अंडरग्राउंड हो गए हैं. उन्होंने अपना मोबाइल भी स्विच ऑफ कर लिया है. सूत्रों की मानें तो वे अधिवक्ताओं से सलाह-मशवरा कर रहे हैं. वे समझ रहे हैं कि किन धाराओं के तहत दर्ज की गई है प्राथामिकी और इसके क्या नतीजे हो सकते हैं. इन चीजों को समझने के बाद वे न्यायालय में अपील कर सकते हैं.
FIR on Khan Sir: छात्रों को भड़काने के आरोप में खान सर के खिलाफ बुधवार को एफआईआर दर्ज किया गया. पटना के पत्रकार नगर थाना की पुलिस ने हिरासत में लिए गए छात्रों के बयान के आधार पर खान सर समेत एसके झा सर, नवीन सर, अमरनाथ सर, गगन प्रताप सर, गोपाल वर्मा सर पर हिंसा भड़काने और साजिश करने के आरोप के तहत मुकदमा दर्ज किया है. पुलिस की मानें तो प्रदर्शन के दौरान हिरासत में लिए गए किशन कुमार, रोहित कुमार, राजन कुमार और विक्रम कुमार ने इस बात को कबूल किया है कि खान सर समेत अन्य ने छात्रों को ऐसा करने के लिए प्रेरित किया था.
खान सर ने यह भी कहा कि पूरी की पूरी गलती आरआरबी की है. एनटीपीसी के छात्र अपने लिए कुछ बेहतर होने का इंतजार कर रहे थे. तभी 40 घंटे पहले ग्रुप डी के छात्रों के लिए डबल एग्जाम लेने का फैसला ले लिया गया. खान सर की मानें, तो मामला आगे नहीं बढ़ता अगर छात्रों में भी कोई उनका एक नेता होता जो पूरे आंदोलन का नेतृत्व करता. इस प्रदर्शन में छात्रों का कोई लीडर नहीं होना दुर्भाग्यपूर्ण है. खान सर के मुताबिक, स्टूडेंट्स की मांग रेलवे को पहले ही मांग लेनी चाहिए थी.
खान सर के अलावा एसके झा सर, नवीन सर, अमरनाथ सर, गगन प्रताप सर, गोपाल वर्मा सर और बाजार समिति के विभिन्न कोचिंग संचालकों के खिलाफ भी मुकदमा दर्ज किया गया है। इन सभी के विरुद्ध आईपीसी की धारा 147, 148, 149, 151, 152, 186, 187, 188, 330, 332, 353, 504, 506 और 120-बी के तहत केस दर्ज हुआ है।
🏠 Home